समाचार

दुनिया का ऐसा देश जहाँ पैसे या कार नहीं बल्कि बादल और बर्फ की हुई चोरी

कार और घर का सामान चोरी होने की बात तो अपने जरूर सुनी होगी और आज के दौड़ भाग भरे समय में लोगो की रातों की नींद और दिन चुरा लिया है पर दुनिया में अब बर्फ और बादल की चोरी भी होने लगी है अगर बात करे बर्फ की तो  उसकी दुनिया में कोई कमी नहीं है और बदल बनाने तक तो ठीक था लेकिन बादल की चोरी होना असंभव लगता है । लेकिन ईरान के एक ब्रिगेडियर जनरल का ऐसा मानना है। 

Rain Steallng

source

सिविल डिफेंस ऑर्गनाइजेशन प्रमुख गुलाम रजा जलाली ने इसराइल पर लगाया आरोप 

Gholam Reza Jalali

source

ईरान के ब्रिगेडियर जनरल और देश के सिविल डिफेंस ऑर्गनाइजेशन के प्रमुख गुलाम रजा जलाली ने ईरान में हो रहे जलवायु परिवर्तन के लिए इजरायल को दोषी ठहराया है | उन्होंने बताया कि अन्‍य देशों के साथ इजरायल की कोशिश है कि ईरान में बारिश न हो।उन्होंने  इजरायल पर अपने देश के बादल और बर्फ चुराने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहना है कि इजरायल, ईरान के मौसम से छेड़छाड़ कर रहा है, जिसके चलते देश में बारिश नहीं हो पा रही है।

लेकिन ईरानी मौसम विभाग ने इस बात से किया इन्कार

लेकिन ईरान के ही मौसम विभाग प्रमुख अहद वजीफे इस बात से बिलकुल भी  सहमत नहीं हैं। उन्‍होंने कहा कि इस तरह की बहस और आरोपों से समाधान नहीं निकलेगा और हम अपने इस संकट से निकलने के लिए हर तरीके से काम में लगे हुए है।

पूर्व राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद भी लगा चुके है ऐसा ही आरोप

Iran President Europe Stealing Iran Rains

source

सिविल डिफेंस ऑर्गनाइजेशन प्रमुख गुलाम रजा जलाली ने बताया कि अफगानिस्तान और भूमध्य सागर के बीच करीब 2200 मीटर का पहाड़ी हिस्सा बर्फ से ढका हुआ है, लेकिन ऐसा ईरान में नहीं है। हालाँकि ऐसा पहली बार नहीं है जब किसी ईरानी अफसर ने इस तरह का आरोप लगाया हो। इसके पहले भी 2011 में पूर्व राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद ने कहा था कि पश्चिमी देशों की वजह से  ईरान में सूखा पड़ा हुआ है। यूरोपीय देश किसी खास तरह के उपकरण का इस्तेमाल करके बादलों को कैद कर लेते हैं।

जबकि ईरान के मौसम विभाग प्रमुख अहद वजीफे ने इस बात से स्‍पष्‍ट तौर पर  इन्कार करते हुए कहा है कि बादल या बर्फ की चोरी असंभव है। ईरान लंबे वक्त से जिस सूखे से जूझ रहा है। वह केवल ईरान की समस्या नहीं है बल्कि वैश्विक समस्या है।

 

विज्ञापन