टेक एंड ऑटो

कोई और भी कर सकता है आपका जीमेल अकाउंट एक्सेस , पढ़ सकता है आपके निजी मैसेज

गूगल जीमेल को सिक्योर करने के लिए कई मल्टी  लॉगिन प्रोसेस उपलब्ध करता है जिसमे स्ट्रॉन पासवर्ड , मोबाइल लॉगिन शामिल है लेकिन इस सब के बाद भी आपका अकाउंट सिक्योर नहीं है क्योकि गूगल ने ही आपके जीमेल अकाउंट का एक्सेस  किसी और को भी दे रखा है। 

फेसबुक की तरह गूगल ने भी दिया थर्ड पार्टी एप्स को एक्सेस

आपके जीमेल से जुड़े लगभग सभी काम जैसे ऑफिस वर्क , सोशल मीडिया एक्टिविटी, बैंक से जुड़े दस्तावेज और ओटीपी और कई प्रकार के निजी मेल भी हो सकते है। अब अगर थर्ड पार्टी एप्प के पास यदि आपके अकाउंट का एक्सेस है तो वो भी इन जानकारी को पढ़ सकता है और डाटा चोरी होने का खतरा बना रहता है। फेसबुक के डाटा चोरी होने वाले स्कैंडल और मार्क जुकरबर्ग के डाटा चोरी होने की बात कबूल कर लेना पर गूगल का इस तरह थर्ड पार्टी को एक्सेस देना एक बड़ा चिंता का विषय है

गूगल का तर्क, केवल अनुभवी डेवेलपर्स को ही दिया एक्सेस

Facebook like data leak at Google

source

गूगल ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि गूगल अकाउंट का एक्सेस केवल अनुभवी थर्ड पार्टी डेवलपर्स को ही देता है और इसके लिए यूजर्स की परमिशन भी मांगी जाती है। लेकिन कई यूजर को इस बात का मालूम भी नहीं होगा कि उन्होंने अपने अकाउंट का एक्‍सेस इन थर्ड पार्टी एप्‍स को दे रखा है।

मार्केटिंग के उद्देश्‍य से स्‍कैन कर सकते है मैसेज

Third party accessing Gmail Accounts

source

यहाँ तक गूगल की बात है तो गूगल  ने तो स्‍वयं जीमेल यूजर्स के इमेल को स्‍कैन करना बंद कर दिया है।वॉल स्‍ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के अनुसार, कुछ थर्ड पार्टी डेवलपर ने एप्‍स बनाएं हैं जो कंज्‍यूमर के अकाउंट को एक्‍सेस कर सकते हैं और मार्केटिंग के उद्देश्‍य से उनके मैसेज स्‍कैन कर सकते है ।

ई-मेल एड्रेस, टाइम स्टांप और  मेसेज का भी एक्सेस 

Gmail data accessed by third party

source

यहाँ तक यूजर की सहमति की बात है तो जीमेल की एक्सेस सेटिंग्स डाटा कंपनियों और एप डेवलपर्स को लोगों के ई-मेल और प्राइवेट डिटेल्स देखने की इजाजत देती है। इसके अलावा, ये लोग ई-मेल एड्रेस, टाइम स्टांप और पूरे मेसेज भी देख सकते हैं। एप्  डेवलपर्स को यूजर की सहमति की आवश्यकता तो होती है, लेकिन कंसेंट फॉर्म (सहमति पत्र) में यह बात स्पष्ट नहीं है कि वह थर्ड पार्टी व्‍यक्‍तिगत जीमेल पढ़ने की अनुमति देगा।

कई कंपनियों करती है आवेदन 

source

गूगल ने बताया कि कुछ डेवलपर्स ने जीमेल एक्‍सेस के लिए आवेदन किया था, लेकिन उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी गई है। गूगल के अनुसार, वह केवल अनुभवी थर्ड पार्टी डेवलपर्स को डाटा देता है और इसमें यूजर की  सहमति होती है। डाटा देने से पहले जांच की जाती है की जिस एप कंपनी को डाटा एक्सेस दिया जा रहा है उसकी पहचान एप द्वारा प्रस्तुत की गई जानकारी के अनुरूप है या नहीं इसके अलावा, एप की प्राइवेसी पॉलिसी में यहाँ बात लिखी होती है कि जिन ईमेल डाटा को मॉनिटर करेगी उसका उनके काम से सीधा सम्बन्ध हो।

सुरक्षा कारणों से भी पढ़े जाते हैं ई-मेल्‍स

gmail security data leak third party access

source

गूगल ने बताया है कि कंपनी के कर्मचारी भी ई-मेल्स को पढ़ सकते हैं, लेकिन यह कुछ खास मामलों में होता है,जिसमे सुरक्षा कारणों से भी ई-मेल्स को पढ़ा जाता है, या  किसी बग और या फिर किसी मामले की जांच के लिए ऐसा किया जाता है । इससे पहले ई-मेल मैनेजिंग कंपनी रिटर्नपाथ और एडिसन सॉफ्टवेयर के पास हजारों जीमेल अकाउंट  का एक्‍सेस था जो मशीन एल्गोरिदम को डाटा हैंडल करने के लिए तैयार कर रहे थे।

जीमेल के करीब 1.4 बिलियन यूजर पूरी दुनिया में  हैं। नए अपडेट्स के तौर पर गूगल ने नया सर्च फंक्‍शन शुरू किया है जो यूजर्स को सेटिंग्‍स व अन्‍य जानकारियां उपलब्‍ध कराने की सुविधा देता है और इसके यूजर इंटरफ़ेस में भी बदलाब किया है।   

विज्ञापन