fbpx
ह्यूमर

बेरोजगारों की दाँस्ता बयां करते 10 अनमोल वचन जिन्हे पढ़कर बेरोजगार भी कहेंगे “जनाब नमक न छिड़को जख्मो पर “

बेरोजगारी और बेरोजगार का दर्द सिर्फ एक बेरोजगार ही समझ सकता है पर वो समझा नहीं सकता क्योकि ये एक ऐसी बीमारी है जिसको दवा , दुआ , सिफारिश और गुंजाईश सभी की जरुरत होती है अगर कुछ भी कमी रह जाए तो ये मर्ज आपको बीमार , बहुत बीमार करने के लिए काफी है। ये 10  वचन उन्ही बेरोजगारों के दिल से निकले है  ……

विज्ञापन