इंस्पायरिंग

इस शख्स की कहानी असल जीवन के किसी स्लमडॉग मिलियनेयर बनने से कम नहीं

स्टार्ट-अप व्यवसाय टक टक चाय

23 वर्ष, और अपने अकाउंट में सिर्फ 50 हजार रुपए के साथ, रुपेश थॉमस लंदन में एक बेहतर जीवन के लिए केरल छोड़ कर चले गए। शुरुवात में मेक्डोनाल्ड में 4 डॉलर प्रति घंटे के हिसाब से काम किया लेकिन आज, 39 वर्षीय ये उद्यमी लाखों डॉलर की कंपनी का मालिक है और इसके श्रेय जाता है उनके  स्टार्ट-अप व्यवसाय टक टक चाय को।

बचपन का संघर्ष

source 

मई 1978 में जन्मे, रुपेश को अपनी मां श्याला, पिता यूसुफ और छोटे भाई राकेश के साथ एक काफी कठिन समय बिताना पड़ा , परिवार को  परिवार को हमेशा वित्तीय कठिनाई का सामना करना पड़ा। हमारे पास कुछ भी नहीं था , मैं अपनी माँ और भाइयों के साथ एक छोटे से किराए के घर में रहता था। रुपेश थॉमस याद करते हैं हुए बताते है, जब में 13 साल का हुआ तो पहेली बार ऐसा मौका था कि मै और मेरा भाई सोने के लिए पलंग नसीब हुआ।

स्कूल में उत्कृष्ट

source

परिवार की वित्तीय स्थिति ख़राब होने के बाद भी रुपेश ने अपनी पढ़ाई अधूरे में नहीं रोकी । 18 साल की उम्र में उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए चेन्नई चले गए। रुपेश थॉमस बताते हैं, ‘स्कूल में, मैंने गणित और विज्ञान में उत्कृष्टता हासिल की थी , जिसका मतलब था कि आगे इंजीनियरिंग पढ़ाई करना’

शुरू से ही देखे बड़े सपने

source 

 

पढ़ाई के दौरान रुपेश की सोच थी कि वो अपने आज के जीवन को पूरी तरह बदल सकते है लेकिन उसके लिए मुझे जिस चीज़ की जरुरत थी  वो थी ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, रचनात्मकता और ख़ुलापन जो मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण थे, और मेरे सोचने के तरीके से मुझे पता था कि मेरा भविष्य पश्चिमी देश में ज्यादा बेहतर होगा ।’ ‘मुझे अपने केरल विरासत पर बहुत गर्व है, लेकिन मुझे हमेशा पता था कि मैं केवल भारत के बाहर जाकर है अपनी पूरी क्षमता तक पहुंच सकता हूं।’

जब पहली बार रुपेश की मुलाकात अलेक्जेंड्रा से मिले

source

अपने अविश्वसनीय काम करने की लगन की वजह से , रुपेश थॉमस जल्द ही कंपनी में ऊँचे पद पर पहुँच गए और 2002 में रुपेश को टीम लीडर के तौर पर प्रमोटेड किया गया। इसी जगह उनकी मुलाकात अलेक्जेंड्रा से हुई और उन्होंने 2007 में शादी की।

प्रेरणा की तलाश

source 

जबकि रुपेश ने अपनी नौकरी के साथ काफी बढ़िया कर रहे थे फिर भी ,अपने जुनून की वजह से आसपास कुछ और रचनात्मक करने के लिए ढूंढ रहे थे। रुपेश बताते है कि ‘मुझे सेल्स और कमुनिकशन व्यवसाय में काम करना अच्छा लग रहा था , फिर भी लाइफ में कही न कही जूनून काम करने का मन था, इसलिए मैं हमेशा अन्य व्यवसायों और अवसरों की तलाश में रहता था और हमेशा से ही फ़ूड बिज़नेस में कुछ करने के विचार में था, और अलेक्जेंड्रा के साथ भारत की यात्रा के दौरान मुझे ये काम करने की प्रेरणा मिली  …

एक बड़े आईडिया ने सब बदल दिया

source

मूल रूप से रुपेश ने भारत में पाई जाने वाली दही लस्सी को पेय पदार्थ के रूप में बेचना चाहा रहे थे  लेकिन उन्हें जल्द ही एहसास हो गया कि ब्रिटेन में इसके लिए पर्याप्त बाजार नहीं है। जब दिसंबर 2014 में रुपेश केरल की यात्रा पर थे, तब उन्हें एहसास हुआ कि अलेक्जेंड्रा को भारतीय चाय कितनी ज्यादा पसंद आई थी, बस यही से टक टक टी का आईडिया रुपेश के दिमाग में आया।

स्कूपिंग अवार्ड

source 

अक्टूबर 2017 में टक टक टी को सबसे ज्यादा ख़रीदे जाने वाले लांच प्रोडक्ट के रूप में सम्मानित किया गया! व्यापार प्रदर्शनी। फ़ूड बिज़नेस के मामले में एक बाहरी व्यक्ति को सफलता मिलना रुपेश के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि थी।

टक टक चाय बना एक उभरता ब्रांड

tuk tuk chai founder inspiring story

source 

कौन जानता था कि चाय, कुछ मसाले और मलाईदार दूध के मिश्रण इतने बड़े फायदे का सौदा साबित हो सकता है ? आज, रुपेश और अलेक्जेंड्रा की कंपनी का मूल्य $ 2.6 मिलियन है।

रुपेश की सफलता का सीक्रेट

रुपेश का कहना है कि करोड़पति बनने के लिए कोई जादुई फार्मूला नहीं है। ‘मेरी सफलता का  भाग्य से कोई लेना देना नहीं है। यह कड़ी मेहनत और पैशन की वजह से है।मुझमे सफल होने की एक भूख  और कभी भी हार न मानने का जज्बा।

यदि पहली बार में आप सफल नहीं होते हैं, तो चाय चाय अगेन …

rupesh thomas tuk tuk chai founder

source 

उभरते उद्यमियों के लिए रुपेश एक ही सलाह देते है ? ‘संघर्ष के समय अपने सबसे बुरे समय के बारे में सोचे जब अपने उसे दूर करते हुए आगे बड़े थे यह सबूत है कि आप कठिन समय को दूर कर सकते हैं और गर्व महसूस कर सकते हैं की अपने ये पहले भी किया है , क्योंकि सफलता इस कड़ी मेहनत के लिए इनाम की तरह है।

About the author

Neelesh

Neelesh

Movie and Tech lover. Inspired and Hardcore Learner Content Producer, Love to write and create. Unlocking thoughts and Ideas, share and experience the things happened around. Speak less that way write.

विज्ञापन