टेक एंड ऑटो

रांची के 38 वर्षीय रंजीत श्रीवास्तव ने बनाई आर्टिफिशल इंटेलिजेंस पर बेस्ड सोशल रोबोर्ट,बोल सकती है हिंदी ,भोजपुरी,मराठी

रांची के 38 वर्षीय  रंजीत श्रीवास्तव ने आर्टिफिशल इंटेलीजेन्स पर बेस्ड सोशल रोबोर्ट  ‘सोफिया’ का इंडियन वर्जन विकसित किया है,  ये एक हांगकांग स्थित कंपनी द्वारा विकसित एक सामाजिक humanoid रोबोट है, जिसका नाम रश्मी है, ये रोबोर्ट अंग्रेजी के साथ साथ हिंदी, भोजपुरी और मराठी भी बोल सकती है।

source                           First Hindi Speaking Humanoid – Rashmi

डेवलपर ने इसे दुनिया के पहले हिंदी भाषा बोलने वाली humanoid रोबोट और भारत की पहली होठ हिलाने वाली रोबोट के रूप में दावा किया। रश्मी लिंगविस्टिक इंटरप्रिटेशन (LI), अर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), विज़ुअल डेटा और चेहरे को पहचानने वाली प्रणाली का उपयोग करती है।

श्रीवास्तव बताते है कि “रश्मी मेरे द्वारा विकसित विशेष रूप से डिजाइन किए गए सॉफ्टवेयर और भाषाई व्याख्या प्रणाली के तहत काम करता है। एलआई प्रोग्रामिंग बातचीत की भावना का विश्लेषण करता है जबकि एआई प्रोग्राम डिवाइस से प्रतिक्रिया देने के लिए  बातचीत का विश्लेषण करता है।

जब श्रीवास्तव से पूछा गया की उन्हें बोलने वाले रोबोट बनाने के लिए किस चीज़ ने इंस्पायर किया तो , उन्होंने कहा कि यह सोफिया थी। श्रीवास्तव ने कहा, “जब मैंने इसे और उसकी फंक्शनलिटी को देखा, तो मैंने सोचा कि इसे विकसित किया जा सकता है और जुलाई 2016 में हिंदी भाषी रोबोट विकसित करने का फैसला किया।

विशेषज्ञों ने इसे एक अविश्वसनीय उपलब्धि कहा।”आईआईटी-इंडियन स्कूल ऑफ माइन्स के सहयोगी प्रोफेसर डॉ सोमनाथ चट्टोपाध्याय बताते है कि “मैंने भारत में किसी भी हिंदी भाषी रोबोट के बारे में नहीं सुना है। हालांकि, मैंने रोबोट नहीं देखा है, लेकिन यह विकसित होने पर अविश्वसनीय लगता है

बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) के मास्टर, श्रीवास्तव, जिन्होंने 15 से अधिक वर्षों के सॉफ्टवेयर विकास में विशेषज्ञता हासिल की है, ने 50,000 रुपये की कम लागत पर दो साल में बोलने वाले रोबोट को विकसित किया है।

“इसे मानव का पूर्ण आकार देने में एक महीने का समय लगेगा। सिर और शरीर विकसित किए गए हैं और वे ठीक से काम कर रहे हैं। श्रीवास्तव ने कहा, “हाथों और पैरों को जोड़ने के लिए प्रक्रिया चल रही है।

रोबोट में होठ हिलाने के अलावा कई और ख़सियत भी  हैं। यह चेहरे, आंख, होंठ, और अपनी भौं से एक्सप्रेशन भी देता है और साथ ही साथ ये गर्दन भी हिला सकती है।

“ह्यूमनोइड रोबोट भविष्य की पीढ़ी की जरूरत है। यह बैंक रिसेप्शनिस्ट, सहायक, अकेले लोगों के साथ रह सकता है  दूसरों लोगो के दोस्त के रूप में काम कर सकता है, “उन्होंने दावा किया। रोबोट से जो कुछ भी पूछेंगे , यह आपको उसी तरह जवाब देगा। यदि रोबोट को बताया जाता है कि आप बदसूरत हैं, तो यह जवाब देता है … नरक में जाओ और यदि आप कहें कि आप सुंदर हैं, यह आपको धन्यवाद देगा।

अपने पसंदीदा अभिनेता के बारे में पूछे जाने पर, रश्मि का जबाब शाहरुख़ खान होता है । श्रीवास्तव ने कहा, “यह किसी व्यक्ति के साथ घंटों तक बात कर सकती है और यह उसकी आंखों में लगाए गए कैमरों के कारण कुछ ही समय के बाद व्यक्ति को पहचानने लगती  है।”

रंजीत श्रीवास्तव ” जिन्होंने राज्य सरकार के विभिन्न विभागों के लिए कई सॉफ्टवेयर विकसित किए हैं और उनके कई सॉफ़्टवेयर को राष्ट्रीय मान्यता मिली।

रणजीत ने पंजीकरण विभाग के लिए ई-निबंधन पोर्टल विकसित करने का दावा किया है, जिसे स्कॉच पुरस्कार, सूचना और सार्वजनिक संबंध विभाग के लिए ई-लाइब्रेरी, पर्यटन विभाग के लिए पर्यटन पोर्टल बनाया जिसे राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार मिला है ।

About the author

Neelesh

Neelesh

Movie and Tech lover. Inspired and Hardcore Learner Content Producer, Love to write and create. Unlocking thoughts and Ideas, share and experience the things happened around. Speak less that way write.

Add Comment

Click here to post a comment

विज्ञापन