फैक्ट्स

बिटकॉइन माइनिंग : दुनिया सबसे बड़ी ब्लॉक चैन से कैसे कमा सकते है पैसा

 

2009 में सतोशी नाकामोतो द्वारा बनाई गई डिजिटल करेंसी बिटकॉइन ज़ब से बजूद में आयी है तब से इसकी पॉपुलैरिटी में आज तक कोई कमी नहीं आई।  जिस तरह इसकी कीमत बढ़ रही है उसी तरह इसकी पॉपुलैरिटी और इस्तेमाल भी बढ़ता जा रहा है।  आज हम जानेंगे कि बिटकॉइन क्या है , इसका इतिहास क्या है , इससे पैसे कैसे कमाए जा सकते है और इसके फायदे और नुकसान क्या है।

 

बिटकॉइन

Bitcoin Mining

बिटकॉइन एक वर्चुअल करेंसी है। ये हमारी बाकि दूसरी करेंसी की तरह ही है जैसे रुपया और डॉलर आदि लेकिन बिटकॉइन सिर्फ एक  डिजिटल करेंसी की तरह ही इस्तेमाल की जाती है , यह बाकी करेंसी से इस लिए अलग होती है क्योंकि ना तो हम इसे देख सकते हैं और ना ही छू सकते है।

अपने जो बिटकॉइन का सिक्का ज्यादातर देखा है वो केवल एक संकेत सूचक के रूप में यूज़ किया जाता है ।जो  बिटकॉइन की छवि दिखता है। 

बिटकॉइन को आप सिर्फ वॉलेट में स्टोर करके रख सकते हैं, जैसे की आज कल के मोबाइल वॉलेट में हम पैसा रखते है और पेमेंट करने के लिए इस्तेमाल करते है। 

 

बिटकॉइन का इतिहास

Bitcoin ki History

18 अगस्त 2008 को, bitcoin.org के नाम से एक डोमेन रजिस्टर्ड किया गया। उसी वर्ष बाद में 31 अक्टूबर को, बिटोकोइन: ए पीयर-टू-पीयर इलेक्ट्रॉनिक कैश सिस्टम नामक एक पेपर का एक लिंक पोस्ट किया गया जो सतोशी नाकामोतो द्वारा लिखा गया था।

इस पेपर में विस्तृत तौर पर लिखा गया कि  “यह किसी ट्रस्ट पर भरोसा किए बिना इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन के लिए एक प्रणाली” है। 3 जनवरी 2009, बिटकॉइन नेटवर्क सातोशी नाकामोतो के साथ अस्तित्व में आया।

 

ब्लॉकचैन क्या है

क्या है ब्लॉकचैन

बिटकॉइन के साथ किए गए ट्रांजैक्शन एक पब्लिक खाते में रिकॉर्ड होते रहते हैं जिसे बिटकॉइन ब्लॉकचेन के नाम से जाना जाता है। यहाँ पर बिटकॉइन द्वारा किए गए सभी ट्रांजैक्शन स्टोर होते रहते हैं।  ब्लॉकचेन ही इसका प्रमाण होता है कि ट्रांजैक्शन हुआ है या नहीं। 

 

बिटकॉइन वॉलेट क्या है

बिटकॉइन वॉलेट क्या है

बिटकॉइन को हम सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक रूप में ही स्टोर करके रख सकते हैं। इसके लिए आपको बिटकॉइन का कोई सिक्का या नोट नहीं मिलने वाला , हाँ लेकिन आप अपनी बिटकॉइन करेंसी को रुपए में कन्वर्ट करके इस्तेमाल जरूर कर सकते है।

इसलिए इसे रखने के लिए एक बिटकॉइन वॉलेट की जरूरत होती है। ये बिटकॉइन वॉलेट कई प्रकार के होते हैं जैसे डेक्सटॉप वॉलेट, मोबाइल वॉलेट ,ऑनलाइन अकाउंट बेस्ड वॉलेट और हार्डवेयर वॉलेट।

इनमें से एक वॉलेट का इस्तेमाल करके हमें अकाउंट बनाना होता है। ये वॉलेट एड्रेस के रूप में एक यूनिक आईडी प्रदान करते हैं। अगर आपने कहीं से बिटकॉइन कमाया है और उसे आपको अपने अकाउंट में स्टोर करना है तो वहां पर आपको उस एड्रेस की जरूरत पड़ेगी ताकि आप अपना कमाया हुआ बिटकॉइन अपने वॉलेट में स्टोर कर सके। 

बिटकॉइन खरीदने व बेचने के लिए भी आपको वॉलेट की  जरूरत पड़ेगी। बिटकॉइन खरीदने बेचने के से आप को जितने भी पैसे मिलते हैं ,आप हमें अपने बैंक अकाउंट में भी ट्रांसफर कर सकते हैं। 

मार्किट में बहुत सारे वॉलेट अवेलेबल है आप रेटिंग और यूज़र रिव्यु देखकर अपने हिसाब से एक वॉलेट चुन सकते है।

 

बिटकॉइन से कमाने का तरीका

बिटकॉइन से कमाने का तरीका - Bitcoin Mining Tips

अब बात आती है कि आप इस करेंसी से कैसे फायदा उठा सकते है या बिटकॉइन से पैसा किस तरह कमा सकते है। करेंसी के आने के बाद इससे कमाने के कई तरीके ईजाद हुए। बिटकॉइन से तीन तरीके से आप पैसा कमा सकते है –

बिटकॉइन खरीद व बेच कर : पहला तरीका है बिटकॉइन में इन्वेस्टमेंट करके।इसके लिए आपको बिटकॉइन वॉलेट की जरुरत पड़ेगी।  ये इन्वेस्टमेंट आपके पास कितने पैसे है उस पर निर्भर करती है। एक बिटकॉइन की कीमत करीब छ महीने पहले  999 डॉलर यानि लगभग 68 हजार रुपए थी।

लेकिन आज इसकी कीमत 5 लाख से भी ज्यादा है तो सोचिए जीने लोगो ने छः महीने पहले मात्र 68 हजार में जो बिटकॉइन ख़रीदा था अगर आज के टाइम पर उन्होंने बेचा होगा तो उन्हें छः महीने के अंदर सीधे सीधे साढ़े चार लाख का फयदा हुआ

और आज जो बिटकॉइन 5 लाख का है उसकी आने वाले समय में इससे भी जायदा कीमत होगी क्योकि बिटकॉइन की कीमत में ज्यादातर समय बढ़ोतरी ही देखी गई है। अगर आप आज बिटकॉइन में इन्वेस्ट करते है तो भी भविष्य में फायदा हो सकता है। 

एक बिटकॉइन हर किसी के लिए खरीदना तो आसान नहीं है इसलिए आप बिटकॉइन की छोटी यूनिट यानि कि संतोसी खरीद सकते है जो आपको बहुत काम कीमत में मिल जाएगी और फिर इनको बेचकर आप पैसा कमाँ सकते है या और ज्यादा सतोसी खरीद सकते है।

1 बिटकॉइन में 100000000 संतोषी होते है इसलिए आप 1 बिटकॉइन ना खरीदकर एक या दो संतोषी या इसी ज्यादा संतोषी खरीद सकते हैं और धीरे-धीरे अपने सतोषी बढ़ाते हुए आप बिटकॉइन बना सकते हैं जब आपके पास बिटकॉइन आ जाएगा और उसका प्राइस बढ़ जाएगा तो आप उसे बेच बेच कर पैसे कमा सकते हैं और बिना बिटकॉइन तक पहुंचे भी आप सतोसी बेचकर पैसा कमा सकते है। 

 

बिटकॉइन से लेन देन करके: आप पेमेंट के तौर पर भी बिटकॉइन ले सकते हैं क्योंकि बिटकॉइन लेने से फायदा यह होगा कि आपके पास बिटकॉइन मौजूद होगा और भविष्य में जब बिटकॉइन के दाम बढ़ेंगे तो आप इस बिटकॉइन को महंगे दामों में बेच सकते हैं या फिर आप भी  किसी प्रकार की खरीद करते हैं तो आप भी उसको बिटकॉइन ज्यादा पैसे में दे सकते हैं। 

 

बिटकॉइन माइनिंग करके: तीसरा तरीका है बिटकॉइन माइनिंग करके जिसके लिए आपको हाई स्पीड प्रोसेसर वाले कंप्यूटर की जरूरत पड़ेगी जिसका हार्डवेयर भी अच्छा होना चाहिए।

हम बिटकॉइन का इस्तेमाल केवल ऑनलाइन पेमेंट या ट्रांसेक्शन के लिए करते हैं और जब कोई बिटकॉइन से पेमेंट करता है तो इस फंक्शन को वेरीफाई किया जाता है और जो इन्हें वेरीफाई करते हैं उन्हें बिटकॉइन माइनर्स कहते है क्योंकि इनके पास हाई प्रोसेसर कंप्यूटर और जीपीयू होता है इसलिए ये जो ट्रांजैक्शन होता है उसे वेरीफाई करते हैं कि ट्रांजैक्शन सही है या नहीं या उसमें किसी तरह का फ्रॉड तो नहीं है।

वेरिफिकेशन के बदले में उन्हें कुछ बिटकॉइन इनाम के तौर पर दिए जाते हैं और इस तरीके से नए बिटकॉइन मार्केट में आते हैं यह काम कोई भी कर सकता है लेकिन बस इसके लिए हाई प्रोसेसर वाले कंप्यूटर की जरूरत होती है जिसे खरीदना हर किसी के बस की बात नहीं होती।

आप मार्किट में मौजूद दूसरी बड़ी वेबसाइट से जुड़ सकते है जो अपने बड़े सर्वर का छोटा सा हिस्सा आपको बिटकॉइन माइनिंग के लिए दे सकते है। उन्ही में से एक जेनेसिस नाम की एक वेबसाइट ये भी है। 

 

फ्री बिटकॉइन कैसे कमाए

फ्री बिटकॉइन कैसे कमाए

आप कुछ वेबसाइट पर सर्फिग करके फ्री बिटकॉइन अर्न सकते है। इसके आलावा आप एड पर क्लिक करके भी फ्री बिटकॉइन कमाँ सकते है। रिकाप्पाचा (एक प्रकार का सिक्योरिटी टास्क) फिल करके भी फ्री बिटकॉइन कमा सकते है।

 

बिटकॉइन के फायदे

बिटकॉइन के फायदे

 

  • बिटकॉइन एक डीसेंट्रलाइज्ड करेंसी है जिसका मतलब है कि इसको कंट्रोल करने के लिए कोई सरकार कोई बैंक या कोई भी अथॉरिटी नहीं है और कोई भी इसका मालिक नहीं है और इसका इस्तेमाल कोई भी कर सकता है। 

 

  • बिटकॉइन का इस्तेमाल हम ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने या ऑनलाइन खरीददारी करने में कर सकते हैं बिटकॉइन पीयर-टू-पीयर प्रणाली पर काम करता है जिसका मतलब यह है कि आप बिना किसी बैंक ,क्रेडिट कार्ड या कंपनी के माध्यम से एक दूसरे को के साथ आसानी से ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। 

 

  • बिटकॉइन ट्रांजेक्शन के तौर पर सबसे आसान और सबसे तेज माना जाता है बहुत सारे लोग आजकल बिटकॉइन को अपना रहे हैं जैसे ऑनलाइन डेवलपर्स एंड पढ़ने और और नॉन प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन। 

 

  • बिटकॉइन का इस्तेमाल दुनिया भर में ग्लोबल पेमेंट के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है अगर हम बैंक के माध्यम से पेमेंट करते हैं तो हमें बैंक के प्रोसीजर का फॉलो करना पड़ता है लेकिन बिटकॉइन में आपको बिना किस प्रोसीजर को फॉलो किये आराम से ट्रांसक्शन कर सकते है। 

 

बिटकॉइन के नुकसान

bitcoin ke nukhsaan

 

  • इसकी वैल्यू कम या ज्यादा होती रहती है क्योंकि इसको कंट्रोल करने के लिए कोई अथॉरिटी , बैंक या सरकार नहीं है इसलिए इसकी वैल्यू इसकी डिमांड के हिसाब से बदलती रहती है। आपने आज एक लाख में कोई बिटकॉइन खरीदा और कल आपको 80000 में बेचना पड़ जाए। तो दाम कभी भी इसमें स्टेबल नहीं होते उतार चढ़ाव आते रहते हैं तो हर बार इसे  फायदे का सौदा नहीं कहा जा सकता। 

 

  •  21 मिलियन से ज्यादा बिटकॉइन मार्केट में नहीं आ सकते इससे ज्यादा बिटकॉइन कभी भी नहीं आ पाएंगे और अभी तक मार्केट में लगभग 13 मिलियन बिटकॉइन आ चुके हैं और जो नए बिटकॉइन है वह माइनिंग के जरिया आएंगे। यानी भविष्य में बिटकॉइन से लेनदेन पूरी दुनिया में केवल इन्ही 21 मिलियन बिटकॉइन से होगा। 

 

  • दूसरा अगर आपका बिटकॉइन अकाउंट हैक कर लिया गया तो आप अपने  बिटकॉइन कभी भी वापस नहीं ले पाएंगे और ना ही कोई आपकी मदद कर पाएगा। 

 

  • बिटकॉइन पर किसी भी अथॉरिटी ,सरकार या किसी बैंक का अधिकार ना होने से इसमें कई बार फ्राड भी हो जाता है और इसलिए आप किसी से शिकायत भी नहीं कर सकते।

 

विज्ञापन