लाइफ स्टाइल

इंसान और जानवरों के बीच बिना किसी शर्त के रिश्ते के दिल छू लेने वाले 7 सर्वश्रेष्ठ उदाहरण

इंसान ने अपने अपने प्रसार और फायदे के लिए जंगलो , प्राकर्तिक संसाधनों का जरुरत से ज्यादा दोहन किया जिसका सबसे ज्यादा नुकसान अगर किसी को पहुंचा है तो जानवरो को और आज भी जानवरो के साथ इंसानो की क्रूर हरकतों की खबरे आती रहती है। पालतू जानवरो के रूप में भी इंसानो के सबसे करीब कुत्ते और बिल्ली ही है। एक फैक्ट ये भी है कि पिछले 5 हजार सालो से में कोई भी नया जानवर पालतू नहीं बनाया गया है।

फिर भी दुनिया के कुछ लोग इन जानवरो के प्रति संवेदनशील है और इनकी गहरी मित्रता की मिशाले दी जाती है।

शेर ने लगाया महिला को गले

source

इस महिला ने एक अफ्रीकी शेर को बचाया था, जो 6 साल पहले भूख की वजह से जगल में दम तोड़ने वाला था। उसने तब उसका ख्याल रखा और देखभाल की जब तक वो पूरी तरह ठीक नहीं हो गया। बाद में उसने उसके रहने के लिए एक ज़ू की व्यवस्था की। एक दिन, जब वह ज़ू उस शेर को देखने गई तो शेर ने उसे देखते ही गले लगा लिया। यह वास्तव में देखने लायक था क्योकि किसी भी शेर ने इतनी देर तक कभी किसी को गले नहीं लगाया था जिसकी अवधि 2 मिनट से ज्यादा थी।

 

इस कुत्ते ने 9 साल तक अपने मास्टर के लिए किया इंतजार

1925 में, हचिको नाम का एक कुत्ता रेलवे स्टेशन पर हर दिन अपने मालिक के लिए इंतजार करता रहता था, अपने मालिक की मृत्यु के बाद भी ।

wikipedia 

हचिको, अक़ीदा प्रजाति का कुत्ता था। जिसकी मुलाकात रेलवे स्टेशन पर अपने मालिक, हिदासबुरो यूनो से हुई थी। यूनो टोक्यो विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे; और हर दिन वह एक ही ट्रेन से अपने ऑफिस जाते थे और उसी समय स्टेशन पर हचिको भी उनको छोड़ने के लिए आता था।

एक दिन, मई 1925 में – यूनो की ब्रेन हेमेरज से मौत हो गई जिसके बाद वो उस जगह पर वापस नहीं आया लेकिन हिचको उसका तब भी इंतजार करता रहता था और वो भी अगले नौ तक हर रोज। वह देश में काफी प्रसिद्ध हो गया था और एक वफादार कुत्ते के रूप में जाना जाने लगा। बाद में रिचर्ड गेरे अभिनीत “हची: ए डॉग्स टेल” नामक एक फिल्म बनाई गई।

 

गोरिल्ला जिसने 5 साल बाद भी डेमियन को पहचान लिया

इंग्लैंड में रहने वाले , डेमियन असपिनल एक 5 साल के गोरिल्ला को अपने साथ अपने घर ले आये, उसने उसका नाम क्विबी रखा लेकिन कुछ ही समय बाद वह गोरिल्ला वापस जंगल लौट आया। 5 साल बाद जब डेमियन उससे मिलने के लिए वापस जंगल गए, सभी चेतावनियों को अनदेखा करते हुए (Kwibi उस समय आक्रामक हो गया था)।

वह जंगल के अंदर चले गए और “क्विबी” को उसी तरह बुलाया जिस तरह वो उसे 5 साल पहले बुलाया करता था। कुछ मिनट बाद एक गोरिल्ला नदी के किनारे दिखाई दिया। क्विबी ने डेमियन की आवाज सुनी और इतने सालो के बाद भी उसे पहचान लिया।

क्रिस्चियन ,वफादार शेर

1969 में क्रिस्चियन नाम के एक शेर को दो भाइयों ने एडॉप्ट कर लिया। लेकिन वह जल्द ही बड़ा हो गया और उनकी देखभाल करने में बहुत मुश्किल हो लगी। इसलिए दोनों भाइयों ने इसे अफ्रीका की जंगली इलाके में छोड़ने का फैसला किया। उसके बाद, भाई अपने प्यारे पालतू जानवर की तलाश करने के लिए जंगल में वापस आये, उन्हें बताया कि उनका पालतू शेर अब एक झुण्ड का मुखिया था और यह असंभव था कि वह उन्हें याद रखेगा। लेकिन भाइयों ने फिर भी उसका पीछा करना जारी रखा। कई घंटों के बाद जब अंततः वो उससे मिले, तो ये हुआ …

 

कैप्टेन जो अपने मालिक की कब्र के बगल में सोता है

कैप्टेन जो इस कुत्ते का नाम था अपने मालिक के अंतिम संस्कार वाले दिन गायब हो गया था। बाद में, वह अपने मालिक की कब्र पर सोता हुआ पाया गया। 2009 में उनके मालिक की मृत्यु हो गई थी और तब से, वह हर दिन कब्र पर आता है और उसके बगल से शाम 6 बजे तक सोता है।

जब एक मगरमच्छ बना इंसान का दोस्त

पोचो एक मगरमच्छ जिसे कोस्टा रिका के एक सख्स – चिटो द्वारा बचाया गया था मगरमच्छ होने के बाद भी वह उसे मरने की हालत में वहा नहीं छोड़ सका। उसके ठीक होने के बाद, चिटो उसे वापस जंगल में छोड़ने के लिए अपनी पीठ पर ले गया। लेकिन शायद इस खतरनाक जानवर में एक इंसान के प्रति लगाव हो गया इसलिए वह चिटो को पीछा करते हुए उसके घर पहुंच गया।

पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति के बाद ,चिटो ने प्राकृतिक कारणों से 50 वर्ष की उम्र में मरने तक पोचो का ख्याल रखा। जब उनकी मृत्यु हो गई तो चिटो के अंतिम संस्कार में पोचो सहित, लाखों पर्यटक और पर्यावरण उत्साही शामिल हो गए।

कबांग एक बहादुर कुत्ता

काबांग – फिलीपींस के परिवार द्वारा एडॉप्ट किया गया कुत्ता एक नायक बन गया जब उसने दो बच्चों को मोटरसाइकिल से मारा जाने से बचाया। वह उनको बचने के लिए वो मोटरसाइकिल के सामने आ गया और  खुद को बुरी तरह घायल कर दिया, लेकिन उसने बच्चों को बचाया। उसने चेहरे और जबड़े का भी हिस्सा खो दिया।

परिवार को उसका  इलाज कराने के लिए पशु चिकित्सक के पास रखने के लिए कहा गया, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। लोगो ने उसकी सर्जरी के लिए 20,000 डॉलर का दान दिया। पशु चिकित्सक ने कहा कि फिट होने से पहले उसे कम से कम दो ऑपरेशन की आवश्यकता होगी।

About the author

Neelesh

Neelesh

Movie and Tech lover. Inspired and Hardcore Learner Content Producer, Love to write and create. Unlocking thoughts and Ideas, share and experience the things happened around. Speak less that way write.

विज्ञापन