ट्रेवल

भारत के वह 7 शहर जहाँ होली मनाने का अपना है अलग ही मज़ा

रंगों का त्यौहार है होली, असत्य पर सत्य की जीत है होली, बुराई पर अच्छाई की जीत है होली। संपूर्ण भारत देश में होली को बहुत ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है लेकिन क्या आपको पता है की इस त्यौहार की शुरुआत कब और कैसे हुई और इसे क्यों मनाया जाता है?

hiranyakashyap

वैसे तो रंगों के इस त्यौहार को ले कर हिन्दू धर्म में कई कथाएं हैं, लेकिन होली की प्रमुख कथाओं में से एक कथा प्रह्लाद और होलिका को ले कर है। हिरण्य कश्यप नामक एक असुर था, जिसने अपनी कठिन तपस्या से ब्रह्मा जी को खुश कर उनसे यह वरदान प्राप्त किया था की उसकी मृत्यु न तो पृथ्वी पर हो, न आकाश में, न दिन में, न रात में, न घर में, न बाहर, न अस्त्र से, न शस्त्र से, न मानव से, न पशु से। जब हिरण्य कश्यप को इस वरदान की प्राप्ति हुई तब उसने विष्णु की पूजा, प्रार्थना को वर्जित कर खुद को भगवान के रूप में पूजे जाने का आदेश दिया।

prahlad

हिरण्य कश्यप का पुत्र प्रह्लाद विष्णु भगवान का परम भक्त था और वह प्रायः भगवान विष्णु की भक्ति में लीन रहता था। इस बात से क्रोधित हो कर हिरण्य कश्यप ने प्रह्लाद को जान से मारने की बहुत कोशिश की लेकिन वह प्रह्लाद का बाल भी बांका नहीं कर पाया।

hiranyakashyap-holika-and-prahlad

तब उसने अपनी बहन होलिका को आदेश दिया की वह प्रह्लाद को अपनी गोद में ले कर अग्नि में बैठ जाए। होलिका को वरदान था की वह अग्नि से नहीं जल सकती और इस कारण अग्नि का होलिका के शरीर के ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ सकता।

holika-and-prahlad

लेकिन जब होलिका ने प्रह्लाद को अपनी गोद में ले कर अग्नि में प्रवेश किया तब होलिका पूरी तरह जल कर भस्म हो गयी और प्रह्लाद का बाल भी बांका नहीं हुआ।

lord-narsimha

इस बात से क्रोधित हो कर हिरण्य कश्यप ने लोहे के खम्भे को पूरी तरह से गर्म करने के बाद प्रह्लाद को उसे गले लगाने का कहा। जब हिरण्य कश्यप ने यह देखा की प्रह्लाद पर लोहे के गर्म खम्बे का कोई असर नहीं हुआ तो वह बौखला गया और उसने उस खम्बे पर ज़ोर कर लात से प्रहार किया। इस ज़ोरदार प्रहार से खम्बे में दरार पड़ गई और उस खम्बे से स्वयं भगवान् विष्णु, नरसिंघ अवतार में प्रकट हुए।

lord-narsimha

उन्होंने हिरण्य कश्यप को महल की दहलीज पर, (जो न घर के अन्दर थी, न बहार), गोधूलि बेला में (शाम के समय) जब न दिन था न रात, नरसिंहा के रूप में (जो न मनुष्य था, न पशु), अपने तेज और नुकीले नाखूनों से (जो न अस्त्र था, न शस्त्र) वध किया था। तब से प्रह्लाद की भक्ति और सच्चाई की जीत को होली के रूप में मनाया जाता है। इसलिए होली की एक रात पहले होली दहन का भी आयोजन किया जाता है।

चलिए अब बात करते हैं भारत की उन जगहों की, जहाँ होली का यह त्यौहार बड़े धूम धाम से मनाया जाता है।

मथुरा, वृंदावन

mathura-vrindavan-holi

भगवन श्री कृष्ण की नगरी मथुरा, वृंदावन में होली के महोत्सव को ले कर लोगों के बीच एक अलग ही उत्साह देखा जाता है। सही मायने में होली पर रंगों से खेलने की शुरुआत भगवान श्री कृष्ण और राधा जी के समय से ही हुई थी। मथुरा में होली के एक सप्ताह पहले से ही इसकी तैयारी जोरों-शोरों से होने लगती है। संगीत और रंगों से सजे जुलूस मंदिरों से होली गेट तक निकाले जाते हैं। द्वारकेशेश मंदिर में होली का आयोजन किया जाता है जहाँ लोग भाँग का सेवन कर संगीतमय माहौल में रंगों से खेलते हुए नज़र आते हैं। मथुरा, वृंदावन में होली के दिन का यह नज़ारा सच में मनमोहक होता है।

बरसाना (उत्तर प्रदेश)

barsana

उत्तर प्रदेश की लठमार होली पूरे भारत में प्रसिद्ध है। ऐसा कहा जाता है की उत्तर प्रदेश स्थित बरसाना में राधा जी का घर हुआ करता था जहाँ कृष्ण जी अपने मित्रों के साथ राधा जी को अपने नटखट अंदाज से तंग किया करते थे। तब से ही वहां की महिलाएं अपने पति के साथ यह लठमार होली का त्यौहार मनाती हैं, जहाँ वह खुद लठ ले कर अपने-अपने पतियों को उससे पीटती हैं वही उन महिलाओं के पति एक ढाल से उनके ऊपर होने वाले वार से बचते नज़र आते हैं।

शांतिनिकेतन (पश्चिम बंगाल)

holi

होली का त्योहार शांतिनिकेतन, पश्चिम बंगाल में बसंत उत्सव या वसंत महोत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस त्यौहार को प्रसिद्ध बंगाली कवि और नोबेल पुरस्कार विजेता रवीन्द्रनाथ टैगोर जी ने अपने विश्व भारती, विश्वविद्यालय में शांतिनिकेतन में वार्षिक कार्यक्रम के रूप में शुरू किया था। विश्व भारती के छात्र इस बसंत उत्सव को विशेष रूप से मनाते हैं। शान्तिनिकेतन के छात्र पीले रंग के कपड़े पहन कर, रंगों से खेलने के बाद कुछ अद्भुत लोक नृत्यों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों को पेश करते हैं। समारोह होली से एक दिन पहले शुरू होता है और अब इसे बंगाली विरासत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भी माना जाता है। इन उत्सवों में भाग लेने के लिए शांतिनिकेतन में पर्यटकों की एक बड़ी संख्या हर साल पहुँचती है।

पंजाब

पंजाब में आनंदपुर साहिब में सिखों की होली (होला मोहल्ला) के नाम से जानी जाती है। होला मोहल्ला एक वार्षिक मेला है जो होली के एक दिन बाद मनाया जाता है। इस त्यौहार की शुरुआत गुरु गोविंद सिंह जी द्वारा की गयी थी। होला नाम, होली का मर्दाना नाम है। होला मोहल्ला में कई लोग अपनी कला, ताकत और हुनर का कौशल दिखाते हैं, घुड़सवारी से ले कर तलवारबाज़ी तक आपको कई कारनामे यहाँ देखने को मिलेंगे।

राजस्थान

holi-in-rajasthan

राजस्थान में होली का यह त्यौहार विशेष रूप से मनाया जाता है। जयपुर में होली को हठी उत्सव के नाम से भी मनाया जाता है, यहां हर साल होली के दिन हाथी, ऊँट और घोड़ों को विशेष रूप से सजा कर, लोक नृत्य के साथ सड़कों पर घुमाया जाता है। हाथी, घोड़ों को सजाने की यहाँ पर प्रतियोगिता भी होती है। होली के दिन राजस्थान की यह जगह देखने लायक होती है।

गोवा

गोवा में होली का त्यौहार ‘शिग्मोस्तव’ के नाम से जाना जाता है। देवी-देवताओं की प्रार्थना से आरम्भ हमने वाले इस उत्सव में परेड का आयोजन किया जाता है, जिसकी शुरुआत पाँच दिन पहले से ही हो जाती है। परेड में सांस्कृतिक नाटक के रूप में ट्रॉप्स के प्रदर्शन के साथ शिगेटोवाव को महत्व दिया गया है। यह परेड होली के दिन अपने शिखर तक पहुँचती है और फिर गुलाल और रंगों से होली खेली जाती है।

हम्पी (कर्नाटक)

hampi

हम्पी, कर्नाटक में होली 2 दिन तक मनाई जाती है। यहाँ लोग सड़कों पर इकट्ठे हो कर एक-दूसरे के ऊपर जम कर रंग फेंकते हैं। हर कोई ड्रम और ढोल की धुन पर मस्ती में झूमते हुए नज़र आते हैं। इस दिन हम्पी में जो नदी है, लोग उसमें डुबकी लगा कर गर्मी का स्वागत दिल खोल कर करते हैं। वहां के स्थानीय लोगों के पर्यटक भी इस उत्सव में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हुए दिखाई देते हैं।

विभिन्न त्योहारों से जुड़े तथ्यों और अपडेट्स के लिए फॉलो करें- buzzhawker.com

About the author

Neelesh

Neelesh

Movie and Tech lover. Inspired and Hardcore Learner Content Producer, Love to write and create. Unlocking thoughts and Ideas, share and experience the things happened around. Speak less that way write.

Add Comment

Click here to post a comment

विज्ञापन