सोशल हैप्पनिंग

इलाहबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखे जाने पर ट्विटर पर किसी ने कहा सही डिसिशन को तो किसी ने की सरकार की आलोचना

उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक शहर का नाम बदलने की बड़ी घोषणा के बाद, आधिकारिक तौर पर इलाहाबाद का नाम फिर से  ‘प्रयागराज’ रख दिया गया जो मुग़ल सम्राट अकबर द्वारा प्रयागराज से इलाहाबाद रखा गया था। सरकार के इस फैसले से कुछ लोग खुश यही वही अन्य लोग इसकी आलोचन कर रहे है।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को यह कहते हुए सुना गया था कि  “कई लोगों की इच्छा हो सकती है कि इलाहाबाद को प्रयागराज कहा जाए। अगर यह एक अच्छा संदेश है। अगर सभी सहमत हैं, तो ये शहर प्रयागराज के रूप में ही जाना जाएगा और यह एक अच्छी शुरुआत हो सकती है”

ट्विटर पर इसकी खबर मिलते ही लोगो ने इससे सम्बंधित ट्वीट करना शुरू कर दिए-

Amey Kulkarni (@Kulkarnium) ने लिखा एक लड़का जो अक्टूबर 2018 को इलाहाबाद में जन्मा , मैं इलाहबाद में जन्मा था और फिर मुझे प्रयागराज लाया गया।

AMIT JAISWAL🗣️ (@iamamitjaiswal) ने लिखा प्रयागराज सुनने में ज्यादा अच्छा लगता है।

Siona Gogoi (@AtomicBlow) ने बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए लिखा; लगातार गिरते रुपया की समस्या को सुलझाने के लिए हमें इसका नाम कुवैती दीनार(कुवैती करेंसी) रख देना चाहिए।

 

Saqib Khawaja 🇮🇳 ثاقب 🇮🇳 (@Saqibkhawaja  ने लिखा कि मुझे पूरा भरोसा है जिस दिन सभी जगहों की नाम ओरिजिनल हिन्दू नाम में बदल जाएगें उस दिन ये सभी जगह महिलाओं और बच्चो के लिए स्वर्ग बन जाएगे , एग्रीकल्चर और छोटे उद्योग फलने फूलने लगेंगे और लोग कचरा फैकना बंद कर देंगे।

Punster® (@Pun_Starr ने लिखा; इलाहबाद का नाम बदलकर प्रयागराज होने वाला है , योगी जी जल्दी ही कानपूर का नाम बदलकर पान पराग राज कर देंगे।

Aditya Abhyankar 🖤🎃 (@AdiTheReaper178) ने लिखा पेट्रोल के दाम बढ़ रहे है इसलिए हमें इसे अब अनाज बुलाना चाहिए।

Rapunzel (@WaggishNushki) ने लिखा:

प्रयाग इलाहाबाद का पूर्व नाम है जिसे अकबर ने “डीन ई इलाही” नामक धर्म लागू करने के बाद बदल दिया था। लॉजिकली इतिहास के आधार पर इस स्थान का नाम बदलना उचित है। इसलिए लोगो को रोने और शोर मचाने का कोई सेंस नहीं बनता है।

Nisha (@niissh) ने लिखा कि जब मद्रास- चेन्नई , बॉम्बे-मुंबई, तो इलाहबाद-प्रयागराज क्यों नहीं हो सकता जबकि प्रयागराज इलाहबाद का असल नाम है।

PrimeMinister(India) (@HaveAGud_tym) ने लिखा मैं इसे इलाहबाद ही बोलना जारी रखूँगा बेहतर होगा कि असली मुद्दों पर ध्यान दिया जाए।

Main Hoon Na (@neo_pac) ने लिखा; क्या मैं अपना नाम बदलकर नीता अम्बानी कर सकती हूँ क्या इससे में अरब पति बन सकती हूँ।

Audrey Truschke (@AudreyTruschke) ने एक लेख शेयर किया जिसमे प्रयाग का नाम इलाहबाद रखे से जाने से जुडी जानकारी है।

Koena Mitra (@koenamitra) ने लिखा; 443 साल बाद इलाहबाद का नाम प्रयागराज रखें पर यूपी सरकार का धन्यवाद दिया।

Supriya Shrinate (@SupriyaShrinate) ने लिखा कि कुम्भ मेले में 3 महीने बाकि है तो ज्यादा बेहतर होगा कि शहर में बेहतर सड़कों और बुनियादी ढांचे की जरूरत को पूरा करना प्राथमिकता होनी चाहिए न कि नाम बदलना।

हाल ही में जब यूपी के मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीन दयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन कर दिया गया था तब भी लोगो ने सरकार की आलोचना की थी।

 

Sri_ Guru_Sir_© ● #UST #RYP 🔔🔔🔔🔔 (@_Sri_Guru) ने गुणगांव , इलाहाबाद और दीन दयाल उपध्याय स्टेशन की नाम बदलने के बाद की फोटो शेयर की।

Kanwar Sandhu (@SandhuKanwar) ने लिखा: 150 साल पुराने मुगलसराय जंक्शन का कोई मतलब नहीं है बेहतर होगा कि हम नए शहर और रेलवे स्टेशन बनाए और उनके नाम हमारे जहां के महान लोगो के ऊपर रखे।

Droc (@Drlegally) ने लिखा; मुग़ल सरई स्टेशन का नाम तो बदल गया अब रेस्टोरेंट अपने मेनू को अपडेट करे जहा चिकन मुगलई को चिकन दीन दयाल उपाध्याय कर देना चाहिए।

barkha dutt (@BDUTT) ने पूछा कि क्या अब मुग़ल गार्डन का भी नाम बदला जाएगा।

Sarkarsm ✘ Lannister (@thebakwaashour) ने लिखा; जब आप से कोई पूछता है कि दीन दयाल उपाध्याय ने इंडिया के लिए क्या किया है।

 

About the author

Neelesh

Neelesh

Movie and Tech lover. Inspired and Hardcore Learner Content Producer, Love to write and create. Unlocking thoughts and Ideas, share and experience the things happened around. Speak less that way write.

विज्ञापन