fbpx
मनोरंजन

सोशल और पर्सनल साइकोलॉजी से जुड़े 10 ट्रिक जिन्हे जानने के बाद आप एक बार आजमाना जरूर चाहेंगे

लोगो के साथ जुड़ने और उनसे घुलते मिलते समय आम तौर पर ज्यादातर लोग उनके बोलने के अंदाज से पता लगाते है व्यक्ति का व्यव्हार कैसा है या उसके दिमाग में क्या चल रहा है लेकिन किसी व्यक्ति की बॉडी लैंग्वेज भी उसके बारे में काफी कुछ बोलती है जो न ही सिर्फ उसके आचरण और व्यव्हार के बारे में बताती है बल्कि ये भी बताती है कि सामने वाले के दिमाग में क्या चल रहा है।

ह्यूमन विहेविअर से जुड़े ये सोशल और पर्सनल साइकोलोजी ट्रिक आपको बड़ी ही आसानी और चलाकी से सामने वाले के दिमाग में झाँकने का मौका देगी।

 

काम टालने से बचना

यदि आपको अक्सर काम टालने की आदत है और कुछ ऐसे जरुरी काम आपको करने है जिन्हे नजर अंदाज नहीं किया जा सकता। तो इस ट्रिक से आप अपने दिमाग को वो काम करने के लिए मजबूर कर सकते है बस उस काम को करने से पहले उसके बारे में सोचिये। सीधे शब्दों में कहें तो – असल दुनिया में कोई काम करने से पहले, इसे अपने दिमाग में पहले करें। जब आप अपने वास्तविक जीवन में आते हैं, तो आपका दिमाग पहले से ही काम के एक बड़े हिस्से को पूरा करने के लिए तैयार हो जाता है जिसके बाद काम आसान लगने लगता है।

तरीके से सीखना या सिखने का तरीका 

कुछ सीखने और याद रखने का सबसे अच्छा तरीका उसे किसी और को समझाना। हम दूसरों को समझाते समय चीजों को सरल बनाते हैं, इसलिए इससे आपको उस जानकारी के सबसे महत्वपूर्ण बिन्दुओ पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है, जिसे आप याद रखना चाहते हैं।

बातचीत के दौरान खींचे व्यक्ति का ध्यान

यदि बातचीत के दौरान आप किसी का ध्यान खींचना चाहते हैं या किसी पर इम्प्रैशन जमाना चाहते हो, तो बात-चीत के दौरान उस व्यक्ति का नाम दोहराएं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब हम किसी से अपना नाम सुनते हैं, तो यह हमारा ध्यान खींचता है और हमें ऐसा महसूस कराता है कि हमें व्यक्तिगत रूप से संबोधित किया जा रहा है और इस बातचीत में आप भी इंगेज कर पा रहे है। सुनिश्चित करें कि आप इस जरुरत से ज्यादा न करे, क्योंकि इससे सामने वाले पर ख़राब इम्प्रैशन पड़ सकता है।

पता करे कि कौन आपको पीछे से देख रहा है ?

अक्सर जब आप महसूस करते हैं कि कोई आपको देख रहा है, लेकिन आप वास्तव में निश्चित नहीं होते हैं? इसके लिए जँभाई(yawn) ले और फिर उस व्यक्ति को देखें जिसे आप देखना चाहते हैं। यदि वो भी जँभाई लेता/लेती है सो समझ लीजिए कि वो व्यकित आप की तरफ देख रहा है क्योकि जँभाई लेना एक फैलने वाली क्रिया है।

दूर करे आई कांटेक्ट एंग्जाइटी

यदि आपने कभी भी एंग्जायटी महसूस की है । यदि आपको आई कॉन्टेक्ट बनाने में मुश्किल और असहजता होती है, तो इस बचने के लिए व्यक्ति की आंखों के बीच में देखने का प्रयास करें। सामने वाले को इसमें कुछ भी अजीब दिखाई नहीं देगा बल्कि आपको और ज्यादा  आत्मविश्वास से भरा हुआ और फ्रेंडली दिखाएगा।

दिखे ज्यादा फ्रेंडली

किसी नए व्यक्ति से मिलने के दौरान फ्रेंडली और कॉन्फिडेन्ट दिखना चाहते हैं? सामने वाले की आंखों का रंग नोट करने की खोशिश करें। निश्चित रूप से उनसे इसका जिक्र करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इसके पीछे का आईडिया ये ज्यादा से ज्यादा समय तक सामने वाले की आंखों से सम्पर्क बनाए रखने के लिए यह एक सरल तकनीक है जो फ्रैंडलीनेस और आत्मविश्वास का संकेत है।

किसी से जानकारी निकलवाने का तरीका

अगर आप किसी से कुछ उगलवाना(कोई सीक्रेट) चाहते है तो उससे सवाल पूछिए , जबाब मिलने के बाद भी शांत रहिए और आई कॉन्टेक्ट बनाई रखिए बिना आगे सवाल करे वो व्यक्ति सब उगल देगा(सीक्रेट)जो आप जानना चाहते है।

झूठी हँसी का फायदा

यदि आप थोड़ा बुरा महसूस कर रहे हैं (हम सभी के लाइफ में अक्सर ऐसे दिन आते है ?) अपने दिमाग को यह सोचने के लिए मजबूर करें कि अच्छे मूड में है इसके लिए आप फेक स्माइल (झूठी मुस्कराहट)कीजिए। मस्तिष्क और शरीर दोनों एक साथ प्रतिक्रिया का आदान-प्रदान करते हैं, इसलिए परिणामस्वरूप, ये एक दूसरे को कई तरीकों से प्रभावित करता है। फेक स्माइल भी एक समान रूप से रियल स्माइल की तरह ही हमारे न्यूरल नेटवर्क को सिग्नल भेजेगी। इसका मतलब है कि एक मुस्कुराहट (या किसी अन्य प्रकार की खुशी जाहिर करने के एक्सप्रेशन) आपके मूड को चेंज कर सकते है।

नजरो को करे नोटिस

लोगों के एक ग्रुप में हँसते हुए, हम हमेशा उस व्यक्ति पर नज़र डालते हैं जिसे हम अपने सबसे करीब महसूस करते हैं। यह एक ऑफिस या कॉलेज रोमांस को समझने का एक आसान तरीका हो सकता है।

पढ़ाई के दौरान क्लासिकल म्यूजिक

एक स्टडी के अनुसार, रैप और हिप हॉप गाने आपके जीपीए को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं, जबकि क्लासिकल और पीसफुल आपके जीपीए को पॉजिटिव रूप से प्रभावित करते हैं। इसके सबसे ज्यादा फायदा आप पढ़ाई के दौरान उठा सकते है। पड़ते समय क्लासिकल म्यूजिक सुनने से आप ज्यादा बेहतर और फोकस तरीके से पढ़ाई कर पाएंगे।

 

 

About the author

Neelesh

Neelesh

Movie and Tech lover. Inspired and Hardcore Learner, Content Producer, Love to write and create. Unlocking thoughts and Ideas to share and experience the things happening around. blood group "be positive."

विज्ञापन